Tuesday, 12 March 2013

मैं, स्टीव मेरा जीवन मेरी जुबानी



Book :  I, STEVE : STEVE JOBS IN HIS OWN WORDS 
Author : Steve Jobs 
Editor:  GEORGE BEAHM
Translator: Neeru
Publisher : Vani Prakashan
Total Pages : 188
ISBN : 978-93-5072-238-1
Price :  `150(PB)
Size (Inches) : 5.25x8
First Edition : 2013
Category  : Autobiography/Management

पुस्तक के सन्दर्भ में 
लोग कहते हैं कि आप जो कर रहे हैं, उसके प्रति आपके मन में अत्यधिक उत्साह होना चाहिए और यह पूर्ण रूप से सत्य है। और इसका कारण है कि यह इतना कठिन है कि यदि आप में उमंग नहीं तो कोई भी विचारशील व्यक्ति इसे छोड़ देगा। यह वास्तव में बहुत कठिन है और आपको इसे लम्बे समय तक करना है। अतः यदि आप इसे पसन्द नहीं करते, आप इसे करते हुए आनन्दित नहीं होते तो आप इसे वास्तव में पसन्द नहीं करते और आप इसे छोड़ देंगे। और बहुत से लोगों के साथ वास्तव में यही होता है। आप यदि उन लोगों की ओर देखें जो समाज की दृष्टि में ‘सफल’ हैं और जो सफल नहीं हैं, तो आप प्रायः पाएँगे कि वही लोग सफल हैं, जिन्हें, उन्होंने जो किया, वह पसन्द था, अतः वे अत्यधिक कठिन समय में भी स्वयं को स्थिर रख सके। और जो इसे पसन्द नहीं करते थे, वे छोड़ गये क्योंकि वे समझदार हैं, ठीक है न? कौन उस कार्य को सहन करेगा, जिसे वह पसन्द नहीं करता। अतः इसके लिए अत्यधिक कठोर परिश्रम की, निरन्तर उसके विषय में सोचते रहने, चिन्तित रहने की आवश्यकता है और यदि आप अपने द्वारा किए जा रहे कार्य को पसन्द नहीं करते तो आप असफल हो जाएँगे।


स्टीव जॉब्स 
एप्पल इंक के सह-संस्थापक एवं लम्बे समय तक सीईओ रहे स्टीव जॉब्स का 5 अक्तूबर, 2011 को देहान्त हो गया था और उनके साथ ही इतिहास के एक महानतम एवं सर्वाधिक रूपान्तरकारी व्यावसायिक कैरियर का अन्त हो गया। इन वर्षों के दौरान जॉब्स ने मीडिया को अनगिनत साक्षात्कार दिये, जिनमें उन्होंने ‘द विज़न थिंग’, जिसकी वे सदा बात करते थे, को स्पष्ट किया। ‘द विज़न  थिंग’ उनकी अतुलनीय दूरदर्शिता एवं बाज़ार में सफलतापूर्वक ऐसे उत्पाद लाने की उनकी योग्यता थी जिनकी ओर लोग बस खिंचे चले आते थे।
तीन दशकों तक प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक एवं ऑन-लाइन प्रसार माध्यमों में उनकी कवरेज पर तैयार की गयी यह पुस्तक स्टीव जॉब्स द्वारा व्यक्त किये गये श्रेष्ठ विचारों एवं सर्वाधिक झकझोरने वाले उनके दृष्टिकोण को व्यक्त करती है। इसमें दी जा रही जॉब्स की दो सौ से अधिक उक्तियाँ उस महान व्यक्तित्व से अभिनव प्रेरणा प्राप्त करने के इच्छुक प्रत्येक व्यक्ति के लिए अनिवार्यतः पठनीय हैं।