Wednesday, 25 July 2012

'वाक्' नए विमर्शों का त्रैमासिक (11वां अंक )


पाठकों के समक्ष वाणी प्रकाशन द्वारा प्रकाशित, हिन्दी त्रैमासिक पत्रिका 'वाक्' नए विमर्शों का त्रैमासिक, (11वां अंक ) प्रस्तुत है 

सम्पादक- सुधीश पचौरी 
संपादन सहयोग -उमा शंकर चौधरी
प्रबंध संपादक -अरुण महेश्वरी 

इस अंक के अनुक्रम में...

आत्मकथा 
दाखिले की शर्त -श्यौराज सिंह बेचैन 

आलेख 
वर्णाश्रम व्यवस्था में स्त्री : देवी या दासी -नीलिमा पांडेय
संथाल 'हूल' : आजादी की पहली बड़ी लड़ाई -केदार प्रसाद मीणा
त्रिलोचन : नैसर्गिक को परम्परा बनाता सृजन -सुबोध शुक्ल 

कहानी 
तनहाइयाँ परिंदे की -विमल चन्द्र पांडेय 

कविताएँ

बोधिसत्व की कविताएँ 
निशांत की कविताएँ 
शंकरानंद की कविताएँ 

संवाद 
जगदीश मित्तल से शशिप्रकाश चौधरी की बातचीत 

आलेख  

आचार्य रामचंद्र शुक्ल और साहित्य का इतिहास दर्शन - जगदीश्वर चतुर्वेदी 
कंचन बड़ा कि काया : विजयदान देथा की कहानी 'दुविधा'- पल्लव 

पुस्तक विशेष 

वन से खुले और बंद अज्ञेय -प्रियदर्शन 

सम्पादकीय सम्पर्क
वाणी प्रकाशन 21 -ए, दरियागंज, नयी दिल्ली-110001

मूल्य : एक अंक 75/ रुपये

व्यक्तिगत वार्षिक शुल्क : 300 ( चार अंक)
(व्यक्तिगत अंक माँगने पर डाक व्यय 25 रुपये अतिरिक्त देना होगा)
संस्थाओं के लिए वार्षिक शुल्क : 600 रुपये
संस्थाओं के लिए एक अंक : 100 रुपये
विदेश में प्रति अंक मूल्य : 10 डॉलर या समक्ष कोई भी मुद्रा (डाक व्यय अतिरिक्त)
नोट : मनीआर्डर/बैंक ड्राफ्ट 'वाक्' नयी दिल्ली के नाम भेजें ।