Friday, 6 April 2012

देश भीतर देश



       AIR (ALL INDIA RADIO) FM GOLD  पर प्रसारित होने वाला कार्यक्रम 'सुबह सवेरे'  में
'देश भीतर देश' उपन्यास की समीक्षा और लेखक से परिचर्चा को आप शनिवार 7 अप्रैल 2012 कार्यक्रम 'सुबह सवेरे' AIR (ALL INDIA RADIO) FM GOLD पर सुबह 7 : 30 से 8 बजे के  बीच सुन सकते हैं/ 
देश भीतर देश के संदर्भ में......
लोकप्रिय और चर्चित उपन्यासकार प्रदीप सौरभ के  उपन्यास 'देश भीतर देश' में कहानी है एक देश में उपज रहे उन अनेक देशों की, जहाँ दिल मुश्किल से मिलते हैं और मानवीय संवाद नहीं होता/ इस कहानी की पटकथा पूर्वोत्तर में रची- बसी है, जिसे हिन्दी कहानीकारों और उपन्यासकारों ने पहले कभी विषय नहीं बनाया/ 'देश भीतर देश' का नायक विनय है, जो 'हाशिये' से नया संवाद स्थापित करता है,  प्रेम केन्द्रित भूमिका निभाता है और पूर्वोत्तर के असम की विषय कथा को कहता है. यह अवश्य ही पढ़ने योग्य कहानी है/ (सुधीश पचौरी,'देश भीतर देश' के सन्दर्भ में) 'देश भीतर देश' सात राज्यों के माध्यम से अपनी कहानी कहता है / 'देश भीतर देश'  पूर्वोत्तर भारत के आन्तरिक कलह पर आधारित है, जो कि क्षेत्रवाद की भ्रांतियाँ  को और देश में फैले नक्सलवाद को समझने में कारगर है /  उन्होंने उपन्यास के माध्यम से भारत की एकता और अखंडता को कायम करने का सार्थक प्रयास किया है /