Wednesday, 27 July 2011

पुनर्पाठ

साथियो,
 
आज शाम छह बजे इंडिया हेबिटाट सेंटर, कासरीना हॉल, नई दिल्ली में वाणी प्रकाशन की ओर से पुनर्पाठ-2 का आयोजन किया जा रहा है.  


आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के उपन्यास 'बाणभट्ट की आत्मकथा' पर हिंदी के प्रख्यात आलोचक नामवर सिंह और आचार्य राधाबल्लभ त्रिपाठी के साथ संवाद करेंगे युवा इतिहासकार और सी.एस.डी.एस. के फेलो रविकांत. 

(अपरिहार्य कारणवश हिंदी के युवा आलोचक बजरंग बिहारी तिवारी आज के कार्यक्रम में शरीक़ होने में असमर्थ हैं.)

कार्यक्रम में पुनर्पाठ-1 में (दिव्या : यशपाल) पर हुए संवाद पर तैयार पुस्तक और फ़िल्म की सी.डी. का भी लोकार्पण किया जाएगा.

बेहतर सवाल पूछनेवाले पांच विद्यार्थियों और शोधार्थियों को पांच-पांच सौ रुपये प्रोत्साहन राशि दी जाएगी. 

नोट : कार्यक्रम के निर्धारित समय से पंद्रह मिनट पहले आयें.  हम शाम की चाय आपके साथ पीना चाहते है.

शुक्रिया.

वाणी प्रकाशन, दिल्ली