Tuesday, 3 January 2017

पुस्तक परिचर्चा : पतनशील पत्नियों के नोट्स


नमस्कार!

वाणी प्रकाशन से प्रकाशित 
  नीलिमा चौहान 
की 
 का लोकार्पण और परिचर्चा 

मुख्य अतिथि 
 अनुराधा मारवाह 
 चर्चित लेखिका 

मुख्य वक्ता 
 अपराजिता शर्मा 
इलस्ट्रेटर 
संचालन 
 पंकज बोस
 सम्पादक वाणी प्रकाशन  

बुधवार,  जनवरी 2017, सायं 6 :00 बजे


 आप सादर आमंत्रित हैं|

विनीत 
 वाणी प्रकाशन व ऑक्सफोर्ड बुकस्टोर 
धन्यवाद

Monday, 12 December 2016

Book Launch - Voter Mata Ki Jai ! by Pratishtha Singh


ऑक्सफ़ोर्ड बुक स्टोर में वोटर माता की जय !
क बेहद खुशनुमा शाम और श्रोताओं से खचाखच भरे हॉल में Pratishtha Singh की
 किताब के विमोचन और परिचर्चा की कुछ तस्वीरें:









मैं जब-जब बिहार गयी, वहाँ के लोगों से मिलती रही 
और महिलाओं से दिल खोलकर बातें की। 
उन सबको लिखती रही, नैरेटिव विकसित होता गया 
और अन्ततः इस किताब की शक्ल में सामने आया।"--@Pratishtha Singh

 कार्यक्रम की रिपोर्ट लाइव हिन्दुस्तान न्यूज़ ने जारी की है  

सोमवार, दिनांक : 12 दिसम्बर 2016 
पृष्ठ संख्या : 5 
साभार : LiveHindustan.com

***



 वोटर माता की जय !

आई.एस.बी.एन: 978-93-5072 -846-8
आई.एस.बी.एन: 978-93-5072-847-5 
 विषय:  समाजविज्ञान
 संस्करण:  प्रथम 
वर्ष: 2016
 मूल्य: 425/-  हार्ड कवर पेपर बॅक - 195/-
 पृष्ठ संख्या: 172  


 पुस्तक अंश  

वोटर माता की जय' बिहार की महिला समाज की ऐसी कथा है जिसमें पूरे बिहार की पृष्ठभूमि की झलक नजर आती है। पुस्तक की भाषा में बिहारी लहजा इसकी रोचकता और पठनीयता को एक नई पहचान देता है यह किताब बिहार की राजनीति में महिलाओं की भूमिका को दर्शाता एक ऐसा प्रयास है जिसमें बिहार की महिलाओं की जागरूकता का प्रमाण मिलता है। किताब यह संदेश देती है की बिहार के वोटर खासकर महिला वोटरों की आवाज को कोई नहीं दबा सकता। वोटर माता की जय बिहार के चुनावी संघर्ष की कहानी है।

वोटर माता की जयकी लेखिका प्रतिष्ठा सिंह ने इटैलियन भाषा में शोध कियाऔर दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ती हैं। 

पुस्तक खरीदने हेतु इस लिंक पर क्लिक करें-



वाणी प्रकाशन समाचार ( वर्ष :10, अंक : 115, दिसम्बर 2016)

प्रिय पाठकों,

प्रस्तुत है वाणी प्रकाशन समाचार 

वर्ष :10, अंक : 115, दिसम्बर 2016